कभी यु तो हो …

Hindi Poems

कभी यु भी तो हो ………. दरिया का साहिल हो , पूरे चाँद की रात हो , और तुम आओ ….! कभी यु भी तो हो ….. परियों की महफिल हो , कोई तुम्हारी बात हो , और तुम आओ …..! कभी यु भी तो हो ….. ये नर्म मुलायम ठंडी हवाएं , जब घर से तुम्हारें गुज़रे , तुम्हारी खुशबू चुरा ले मेरे घर आयें , और तुम आओ …..!   कभी यु भी तो हो …… सुनी हर मंजिल हो , कोई ना मेरे साथ हो , और तुम आओ …..! कभी यु भी तो हो …… ये बादल ऐसा टूट के बरसे , मेरे दिल की तरहा मिलने को तुम्हारा दिल भी तरसे , तुम निकालो घर से और वापिस ना जा पाओ , कभी यु भी तो हों ….. तन्हाई हो , बूंदे हो , बरसात हो और तुम आओ , और कभी वापिसना जाओ …… कभी यु भी तो हों ……… पलक …….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *