Category: Lamhay

Lamhay 2011-08-07 09:48:00

पिछले प्रहर की रात थी तन्हाई और तेरी याद थी वही कही से चाँद आ गया सिराहने तक पूछने लगा जिन
Read More

Lamhay 2011-07-08 02:45:00

मासूम महोब्बत का बस इतना सा फ़साना हैरेत की हवेली है ..बारिश का अफसाना हैक्या शर्त -ऐ-महोब्बत हैक्...
Read More

Lamhay 2011-06-14 07:22:00

वो ना आये पर उनकी याद आकर वफ़ा कर गयी,रही तमना हर वक़्त मिलने की मेरे अमन सुकून तबाह कर गयी,दर पर आहट...
Read More

फिर मिलना उसका….

ज़िन्दगी में, मिल गया फिर वो,एक रात की बात थीकुछ कह नहीं पाए हमवक़्त की बात थीआँखों से आसू बरसते र
Read More

वफ़ा …!!!!!!

तुम मुझे मौक़ा तोह दो ऐतबार बन’नेकाथक जाओगे चाहते चाहते मेरी वफ़ा केसाथ !!!
Read More

Lamhay 2011-03-04 04:52:00

ता क़यामत सोचकर देखातेरा चेहरा फिर अगर में देख लूबस एक बार ..शुक्र करते करते बाकि ज़िन्दगी कर दूँ म...
Read More

WISH

ए मुहोब्बत में तेरी अदा'ओं से हु परेशांजिसे इतना चाहा उसे ही पाने की ख्वाहिश नहीं ..
Read More