में कौन ….?

All Posts

आज भि यही सवाल मेरे ज़हन ढूढ़ रही ना जाने कब से, मैं कौन? शायद वो… जो गुडयिया से घर-घर खेले गीतों के धुन पे मोरनी बन नाचे कटी पतंगो,कभी तितलियों के पीछे भागे॥ माँ की डांट पर कोने बैठ मुँह पूलायीं बहना से लड़ उसकी टोफ्फी चुरा खाये … शायद वो… कभी इक सांस में मंदिर की सीढिया चढे कभी सालो इश्वर को अपने में ही ।ढूढे बिन परवाह किये बिन सब बंधन तोड़ दे ….अपनी हथेली सजी मेहंदी को ही रोंद दे कभी बन पहाड़ घर-परिवार संभाले कभी शोला बन दुनिया फूंक डाले …. शायद वो… इंसानी रिश्तो को बारीकी से समझे कभी उन्ही रिश्तो में छली जाए आधि अधूरी ज़िन्दगी को हाथो में समेटे कभी दुनिया को अलविदा कह जाए फिर भि अब तलक ना पतामैं कौन … पलक ……..

हमें इंतज़ार हैं

palak

टकटकी सी एक आंखों में रहती हैं दिल में बस आपका ही ख्याल रहता हैं यूँ इंनायत से नज़ारे ना मिलाया कीजिये दिल मेरा बड़ा बेकरार रहता हैं की एक अनकही सी बात कह जाती हैं नज़र आपकी अरे आपके एक उफ़ का भी बड़ी बेसब्री से हमें इंतज़ार रहता हैं…

उम्मीद की डोर …!!!!

All Posts

gazal

एक अनचाहा अजनबी सा मोड़ उन पुराणी पहचानी रह-गुजर पे …

एक गहरा अनजाना सा मुखौटा उन बरसों से जाने पहचाने धूंदले होते चेहरों पे …

एक अनजबी सी चुभन सुनाई देती सिसकियाँ किसी टूटे दिल की …

ये तुम्हारा उमर लंबा इंतज़ार सांसो का ये शोर दिल में जगी ख्वाहिशे सब है उम्मीद की उस एक डोर से ….