Khwahish 2013-05-21 11:17:00



चलते चलते थक कर पूछा पाव के छालों ने 
बस्ती कितनी दूर बसा ली दिल मैं बसने वालों ने 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *