Lamhay 2015-07-14 15:05:00



जिदगी उलझ कर रह गई है चंद साँसो की साजिश में…. 

हजार बार मरते हैं हम कुछ पाने की ख्वाहिश में…


…पल …

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *