मुज को जिन्दगी का ये हिस्सा समझ नहीं आता क्यूँ जीता है इंसान यह फल्साफा समझ नहीं आता कुछ तरस ज...