यादो के बहाव में बह जाना याद है

छोटी छोटी बातों पे मुस्कुराना याद है
पतझड़ मैं भी लगता था मौसम बहारों का
तुम्हारे इंतज़ार मैं वक्त बिताना याद है
कभी साथ बैठे बैठे युही वक्त बिता देना
कभी मेरी हर बात पर तुम्हारा मुस्कुराना याद है
कभी बिन बताये तुम्हारा सब कुछ कह देना
कभी कह के भी बात छुपाना याद है
कुछ सुन ना चाहते थे हम तुमसे
पर तुम्हारा न कह पाना याद है
अभी तो मिले भी नही थे रास्ते हमारे
यूँ एक मोड़ पर राहों का मुड़ जाना याद है
चाहा था एक कहानी बने हमारी
मगर पन्नो का अचानक बिखर जाना याद है
कहाँनी न सही अफसाना तो बन गया
इस अफ़साने का हर फ़साना मुझे याद है

from :- khwabon ki nagariya

यादो के बहाव में बह जाना याद है

छोटी छोटी बातों पे मुस्कुराना याद है
पतझड़ मैं भी लगता था मौसम बहारों का
तुम्हारे इंतज़ार मैं वक्त बिताना याद है
कभी साथ बैठे बैठे युही वक्त बिता देना
कभी मेरी हर बात पर तुम्हारा मुस्कुराना याद है
कभी बिन बताये तुम्हारा सब कुछ कह देना
कभी कह के भी बात छुपाना याद है
कुछ सुन ना चाहते थे हम तुमसे
पर तुम्हारा न कह पाना याद है
अभी तो मिले भी नही थे रास्ते हमारे
यूँ एक मोड़ पर राहों का मुड़ जाना याद है
चाहा था एक कहानी बने हमारी
मगर पन्नो का अचानक बिखर जाना याद है
कहाँनी न सही अफसाना तो बन गया
इस अफ़साने का हर फ़साना मुझे याद है

from :- khwabon ki nagariya

I Love U…!!!!

Will you ever come back,
To hold my hand
To rekindle my life,
To stand beside me,
And grow with my life.

I want you more than ever,
I want to love you forever.

You touched my heart,
You felt my soul,
I was sort of incomplete,
You made me whole…

Theres no life without you,
Its only you and you
I Love You YES I Love You!!!!…….

Will you ever come back,
To hold my hand
To rekindle my life,
To stand beside me,
And grow with my life.

I want you more than ever,
I want to love you forever.

You touched my heart,
You felt my soul,
I was sort of incomplete,
You made me whole…

Theres no life without you,
Its only you and you
I Love You YES I Love You!!!!…….

પલક….

પલક ઝપકી, ‘ને એક પ્રકાશ રેલાયો વીશ્વમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને બ્રહ્માંડ રચાયું ઘોર અન્ધકારમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને જીવાંકુર ફુટ્યું આ ધરણીમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને જીવન મહેંક્યું અફાટ સંસારમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને બે જીવ મળ્યાં અણદીઠેથી.
પલક ઝપકી, ‘ને બે આત્મા એક થયાં તૃપ્તીથી.
પલક ઝપકી, ‘ને એક શ્વાસ વધ્યો જીન્દગીમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને સ્નેહતણો રણકાર થયો દીલમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને રસહીન થયો આ સંસાર.
પલક ઝપકી, ‘ને પ્રભુમીલન થયું જે નથી અસાર।

Palak

પલક ઝપકી, ‘ને એક પ્રકાશ રેલાયો વીશ્વમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને બ્રહ્માંડ રચાયું ઘોર અન્ધકારમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને જીવાંકુર ફુટ્યું આ ધરણીમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને જીવન મહેંક્યું અફાટ સંસારમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને બે જીવ મળ્યાં અણદીઠેથી.
પલક ઝપકી, ‘ને બે આત્મા એક થયાં તૃપ્તીથી.
પલક ઝપકી, ‘ને એક શ્વાસ વધ્યો જીન્દગીમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને સ્નેહતણો રણકાર થયો દીલમાં.
પલક ઝપકી, ‘ને રસહીન થયો આ સંસાર.
પલક ઝપકી, ‘ને પ્રભુમીલન થયું જે નથી અસાર।

Palak

Strength of a Man ….!!!!

man

Strength of a Man

The strength of a man isn’t seen in the width of his shoulders.
It is seen in the width of his arms that encircle you.
The strength of a man isn’t in the deep tone of his voice.
It is in the gentle words he whispers.
The strength of a man isn’t how many buddies he has.
It is how good a buddy he is with his kids.
The strength of a man isn’t in how respected he is at work.
It is in how respected he is at home.
The strength of a man isn’t in how hard he hits..
It is in how tender he touches.
The strength of a man isn’t how many women he’s Loved by.
It is in can he be true to one woman.
The strength of a man isn’t in the weight he can lift.
It is in the burdens he can understand and overcome.

beauty

Beauty of a Woman

The beauty of a woman
Is not in the clothes she wears,
The figure she carries,
Or the way she combs her hair.
The beauty of a woman
Must be seen from her eyes,
Because that is the doorway to her heart,
The place where love resides.
The beauty of a woman
Is not in a facial mole,
But true beauty in a woman
Is reflected in her soul.
It is the caring that she lovingly gives,
The passion that she shows,
The beauty of a woman
With passing years-only grows
.
woman

Lucky is the man who is the first love of a woman,
but luckier is the woman who is the last love of a man

Luv Happens Only Once….
Rest Is Just Life…

this is one of the best post from my dearest friend . thanks for this post …. PALAK…

man

Strength of a Man

The strength of a man isn’t seen in the width of his shoulders.
It is seen in the width of his arms that encircle you.
The strength of a man isn’t in the deep tone of his voice.
It is in the gentle words he whispers.
The strength of a man isn’t how many buddies he has.
It is how good a buddy he is with his kids.
The strength of a man isn’t in how respected he is at work.
It is in how respected he is at home.
The strength of a man isn’t in how hard he hits..
It is in how tender he touches.
The strength of a man isn’t how many women he’s Loved by.
It is in can he be true to one woman.
The strength of a man isn’t in the weight he can lift.
It is in the burdens he can understand and overcome.

beauty

Beauty of a Woman

The beauty of a woman
Is not in the clothes she wears,
The figure she carries,
Or the way she combs her hair.
The beauty of a woman
Must be seen from her eyes,
Because that is the doorway to her heart,
The place where love resides.
The beauty of a woman
Is not in a facial mole,
But true beauty in a woman
Is reflected in her soul.
It is the caring that she lovingly gives,
The passion that she shows,
The beauty of a woman
With passing years-only grows
.
woman

Lucky is the man who is the first love of a woman,
but luckier is the woman who is the last love of a man

Luv Happens Only Once….
Rest Is Just Life…

this is one of the best post from my dearest friend . thanks for this post …. PALAK…

अब सोचती हु के तेरा नाम ले लू …

मैं सर पर महोब्बत का इल्जाम ले लू
इजाजत अगर हो तेरा नाम ले लू

मेरी जिन्दगी बेमजा हो गई है
दो एक पल तो तेरी बात कह लू

मेरी शामे बेहाल तनहाइयों से
कहो तो तुम्हारी कोई शाम उधार ले लू

मैं बदनामियों से डरती रही हु
अब सोचती हु के तेरा नाम ले लू …

पलक

मैं सर पर महोब्बत का इल्जाम ले लू
इजाजत अगर हो तेरा नाम ले लू

मेरी जिन्दगी बेमजा हो गई है
दो एक पल तो तेरी बात कह लू

मेरी शामे बेहाल तनहाइयों से
कहो तो तुम्हारी कोई शाम उधार ले लू

मैं बदनामियों से डरती रही हु
अब सोचती हु के तेरा नाम ले लू …

पलक

मेरे नाम पर मरती थी ….

कभी शर्मा के , कभी मुस्का के , आचल को सवारा करती थी ,
कभी हम पे क़यामत मरती थी, कभी हम क़यामत पे मरते थे ,

चलते चलते रुक जन, कुर्ती की सलवटों को सुल्जाना ,
भोली सूरत वाली वो ऐसे ही नज़ारा करती थी ,

मिलते ही नजर मुस्का देना और पलकों को जपका देना ,
मस्त निगाहों से अक्सर वो उही इशारा करती थी ,

जब घर से न आना होता था उस का .
तब देर तलक छत पर वो जुल्फ सवार करती थी

लोगों के सौ सौ ताने और बदनामी के अफसाने ,
मेरी खातिर न जाने वो क्या क्या गवारा करती थी….

थी वो मेरी बस मेरे नाम पर मरती थी ….
पलक …..

कभी शर्मा के , कभी मुस्का के , आचल को सवारा करती थी ,
कभी हम पे क़यामत मरती थी, कभी हम क़यामत पे मरते थे ,

चलते चलते रुक जन, कुर्ती की सलवटों को सुल्जाना ,
भोली सूरत वाली वो ऐसे ही नज़ारा करती थी ,

मिलते ही नजर मुस्का देना और पलकों को जपका देना ,
मस्त निगाहों से अक्सर वो उही इशारा करती थी ,

जब घर से न आना होता था उस का .
तब देर तलक छत पर वो जुल्फ सवार करती थी

लोगों के सौ सौ ताने और बदनामी के अफसाने ,
मेरी खातिर न जाने वो क्या क्या गवारा करती थी….

थी वो मेरी बस मेरे नाम पर मरती थी ….
पलक …..

अजनबी आखों से छलका है प्यार पहली दफा

अजनबी आखों से छलका है प्यार पहली दफा
एक उम्मीद जगी है की अब मिलेगी वफ़ा
मैंने रातो मई गिराएँ है जो असू अक्सर
उसी शबनम से खिल उठी है आज मेरी सबा
सब ने मातम ही मनाये है मेरे जीने पर
वो दुआ मागेगी मेरे लिए क्यों ऐसे लगा.?
मेरी हर बात का दुनिया मलाल करती है
मेरा हर रंज उठाएगी वो ना होगी खफा
बस यही जरा सा सताए खोफ है मुझे
कही औरो की तरह वो भी ना दे जाए दगा मुझे …

पलक

अजनबी आखों से छलका है प्यार पहली दफा
एक उम्मीद जगी है की अब मिलेगी वफ़ा
मैंने रातो मई गिराएँ है जो असू अक्सर
उसी शबनम से खिल उठी है आज मेरी सबा
सब ने मातम ही मनाये है मेरे जीने पर
वो दुआ मागेगी मेरे लिए क्यों ऐसे लगा.?
मेरी हर बात का दुनिया मलाल करती है
मेरा हर रंज उठाएगी वो ना होगी खफा
बस यही जरा सा सताए खोफ है मुझे
कही औरो की तरह वो भी ना दे जाए दगा मुझे …

पलक

खामोशी

वो आज फ़िर हम से मिला, वो आज फ़िर चला गया ,
न हमसे कुछ कहते बना , न उसी से कुछ कहा गया..

शरमाया सा – घबराया सा , वो सामने बैठे रहा,
हम लबो को हिला कर रह गए , वो इस कदर हमें हिला सा गया ,

उसे आस ये की हम कुछ कहे, हमें इंतज़ार ये की वो कुछ कहे,
वो खामोशी मैं बोलता गया, हम खामोशी को सुन ना पाए ,

होसला किया भी था की बढ़ कर हाथ थाम ले ,
हम दिल ही थामे रह गए , वो नजर यु मिला गया ,

बेताब सारी हसरते तड़प – तड़प के रह गई ,
हम मुस्कुरा के रह गए , वो मुस्कुरा कर चला गया ….

PALAK

वो आज फ़िर हम से मिला, वो आज फ़िर चला गया ,
न हमसे कुछ कहते बना , न उसी से कुछ कहा गया..

शरमाया सा – घबराया सा , वो सामने बैठे रहा,
हम लबो को हिला कर रह गए , वो इस कदर हमें हिला सा गया ,

उसे आस ये की हम कुछ कहे, हमें इंतज़ार ये की वो कुछ कहे,
वो खामोशी मैं बोलता गया, हम खामोशी को सुन ना पाए ,

होसला किया भी था की बढ़ कर हाथ थाम ले ,
हम दिल ही थामे रह गए , वो नजर यु मिला गया ,

बेताब सारी हसरते तड़प – तड़प के रह गई ,
हम मुस्कुरा के रह गए , वो मुस्कुरा कर चला गया ….

PALAK