टूटे हुए सपनों और छूटे हुए अपनों

टूटे हुए सपनों और छूटे हुए अपनों ने उदास कर
दिया,
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सीखने
आया करती थी..

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *